English word meaning, General competition, #Vocabulary.Part.1

English word meaning, General competition,
#Vocabulary.Part.1_Nasir_Sultan_Sb_Academy

By M Nasir Sir
www.nssacademy.in

=============================================

• a - ए

• ability - योग्यता

• able - योग्य

• about - के बारे में

• above - ऊपर

• absence - अनुपस्थिति

• absolutely - पूर्ण रूप से

• abuse - गाली

• accept - स्वीकार करना

[ ] access - पहुंच

• accident - दुर्घटना

• account - लेखा

• accurate - शुद्ध

• acquire - अधिग्रहण

• across - भर में

• act - अधिनियम

• action - कार्य

• actually - वास्तव में

• add - जोड़ना

[ ] addition - इसके अलावा

• address - पता

• admit - स्वीकार करना

• advantage - फायदा

• advice - सलाह

• affair - मामला

• afford - बर्दाश्त

• afraid - डरा हुआ

• after - बाद

• afternoon - दोपहर

[ ] again - फिर

• against - विरुद्ध

• age - आयु

• agent - एजेंट

• aggravation - उत्तेजना

• ago - पूर्व

• agree - इस बात से सहमत

• agreement - समझौता

• ahead - आगे

• airport - हवाई अड्डा

[ ] alarm - अलार्म

• alcohol - शराब

• alive - ज़िंदा

• …

अर्थशास्त्र के सिद्धांत क्या हैं? what are the principles of Economics?




अर्थशास्त्र के सिद्धांत क्या हैं? what are the principles of Economics?

परिभाषा: अर्थशास्त्र के सिद्धांत एक सत्य और मौलिक धारणा है, जिस में से एक विचार का निर्माण किया जाता है ...
सुझाव। अर्थशास्त्र के सिद्धांत = प्रतिभा सत्य जिस पर अर्थशास्त्र आधारित है।
 प्रो . जे . के . मेहता की परिभाषा ( Prof . J . K . Mehta ' s Definition )

  अर्थशास्त्र की परिभाषा देने में प्रो . मेहता ने गाँधीवादी दृष्टिकोण - सादा जीवन उच्च विचार ( Simple Living and High Thinking ) को आधार बनाया है । उन्होंने मानव जीवन का अन्तिम लक्ष्य सुख को माना है । भारतीय दर्शन व संस्कृति के अनुरूप प्रो . मेहता ने अर्थशास्त्र को परिभाषित किया है , " अर्थशास्त्र एक विज्ञान है जिसमें मानव के उस व्यवहार का अध्ययन किया जाता है जिससे आवश्यकता विहीनता के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके । " 

 प्रो . मेहता का दृष्टिकोण यह है कि अर्थशास्त्र के अध्ययन का लक्ष्य आवश्यकताओं का संख्यावर्धन नहीं बल्कि उनके न्यूनतम का होना चाहिए । उन्होंने इस सम्बन्ध में मार्शल तथा रॉबिन्स के दृष्टिकोण को गलत ठहराया है । प्रो . मेहता के अनुसार अर्थशास्त्र में मानव के उन प्रयासों का अध्ययन किया जाना चाहिए जिससे परम सुख की प्राप्ति हो । यह तभी हो सकता है जबकि मानव के प्रयास आवश्यकता विहीनता ( Wantless ) की अवस्था तक पहुँचने के लिए किये जायें ।

 जे . के . मेहता की परिभाषा . का सबसे बड़ा दोष उसका अव्यावहारिक होना है । इस परिभाषा को अनावश्यक रूप से भारतीय दर्शन के सिद्धान्तों पर आधारित किया गया है । यदि किसी प्रकार यह मान लिया जाये कि मेहता की परिभाषा सही है तो यह स्वयं विनाशकारी होने के कारण , अर्थशास्त्र के अध्ययन की आवश्यकता को ही समाप्त कर देती है । जब आवश्यकता विहीनता के फलस्वरूप , मानवीय आवश्यकताएँ ही समाप्त हो जायेंगी तो आर्थिक अध्ययन का आधार ही समाप्त हो जायेगा ।

what are the principles of Economics?

arthashaastr ke siddhaant kya hain?
paribhaasha: arthashaastr ke siddhaant ek saty aur maulik dhaarana, jis mein se ek vichaar ka nirmaan kiya jaata hai ...sujhaav. arthashaastr ke siddhaant = pratibha saty jis par arthashaastr aadhaarit hai.


Pro . je . ke . mehata kee paribhaasha ( prof . j . k . maiht s daifinition ) arthashaastr kee paribhaasha dene mein pro . mehata ne gaandheevaadee drshtikon - saada jeevan uchch vichaar ( simplai living and high thinking ) ko aadhaar banaaya hai . unhonne maanav jeevan ka antim lakshy sukh ko maana hai . bhaarateey darshan va sanskrti ke anuroop pro . mehata ne arthashaastr ko paribhaashit kiya hai , " arthashaastr ek vigyaan hai jisamen maanav ke us vyavahaar ka adhyayan kiya jaata hai jisase aavashyakata viheenata ke lakshy ko praapt kiya ja sake . " 

Pro . mehata ka drshtikon yah hai ki arthashaastr ke adhyayan ka lakshy aavashyakataon ka sankhyaavardhan nahin balki unake nyoonatam ka hona chaahie . unhonne is sambandh mein maarshal tatha robins ke drshtikon ko galat thaharaaya hai . pro . mehata ke anusaar arthashaastr mein maanav ke un prayaason ka adhyayan kiya jaana chaahie jisase param sukh kee praapti ho . yah tabhee ho sakata hai jabaki maanav ke prayaas aavashyakata viheenata ( wantlaiss ) kee avastha tak pahunchane ke lie kiye jaayen .

 je . ke . mehata kee paribhaasha . ka sabase bada dosh usaka avyaavahaarik hona hai . is paribhaasha ko anaavashyak roop se bhaarateey darshan ke siddhaanton par aadhaarit kiya gaya hai . yadi kisee prakaar yah maan liya jaaye ki mehata kee paribhaasha sahee hai to yah svayan vinaashakaaree hone ke kaaran , arthashaastr ke adhyayan kee aavashyakata ko hee samaapt kar detee hai . jab aavashyakata viheenata ke phalasvaroop , maanaveey aavashyakataen hee samaapt ho jaayengee to aarthik adhyayan ka aadhaar hee samaapt ho jaayega .

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वित्तीय लेखांकन क्या है? What is Financial Accounting?

स्वच्छ भारत अभियान या स्वच्छ भारत मिशन || Clean India Campaign or Clean Indi Mission

My Dream life IPS Officer